computer science: blogging

Comments

ads

Hot

Post Top Ad

Your Ad Spot
Showing posts with label blogging. Show all posts
Showing posts with label blogging. Show all posts

Thursday, August 30, 2018

Facebook Page Kaise banaye in hindi ?

August 30, 2018 0

 Facebook Page Kaise banaye?

Facebook Page Kaise banaye  in hindi
Facebook Page Kaise banaye

 

Facebook Page Kaise banaye  in hindi
Facebook Page Kaise banaye  in hindi

 

Ye to aap jaante hai ki Facebook duniya ki sabse lokprya site hai or is ki madad se ham apne dosto se jude rha sakte hai, jispar aapka FB account bhi jarur hoga. Aaj ham jaanege ki Facebook standard apna busness ke liye ya fir actuation ke liye apna Facebook Page kise Banaye.

facebook standard page kaise banate hai puri jaankari

Agar aap ka koi  business hai or aap ke page nahi hai to aap bhut badi galti kar rahe hai q ki aaj ke time me agar koi asaan tarika hai apne busness ko free me raise karne ka to bo Facebook Page hai. Issi traha dusri individual to singular correspondence regions bhi aapke busness ko advance karti hai jese Google+ Page or Twitter.
To chaliye jada time na barbaad karte huye apne subject standard aate hai, or jaante hai Facebook Page Kaise banta hai.

 Facebook Page bnanae ke liye kya Jarurat hai .

Facebook Page ke liye aapka account phele se hona chaiye, agar aapka account nahi hai facebook standard, To phele aap apna Facebook Par Account bana lijiye.

Kaise Kya Karna Hai Facebook Page Banane ke liye.

Page ko banane ke liye aapko sabse phele apne Facebook account me login karna padega. Facebook standard login karne ke baad quality diye steps ko take after kare, facebook standard page kaise banaye ye janne ke liye..

Stage 1:

Aake Facebook account me sidhe haath side uper kone me ek arro hoga uspar click kare fir Create Page standard snap kare.
make page standard snap kare

Stage 2:

Stomach muscle jo agla Page khulega us standard us standard kuch class hogi usme se aap ko apne Page ke liye koi ek Category select karni padegi.

Page ki catogry selsct kare.

Near to Business or Place: Agar aap Facebook Page Apni kisi dukaan ya koi neighborhood business ho uske liye bana rahe hai to ye class select kare fir apni Puri Detail bhare us se related.

Affiliation, Organization or Institution:

 Agar aap ki koi affiliation yaa fir koi Institute to ye plan select kare.
Brand or Product: Agar aap kisi ek thing ya phir kisi check ka page banana chate hai to ye select kare. Jese maanlo agar aapko apni site ke liye page banana ho to pick kar lijiye.

Master, Band or Public Figure:

 Is game plan me ham kisi badi hasti ka page banate hai. Jese Hero-Heroin, Agar aap Artist hai or aap apna limit bhi page banakar share kar sakte hai.

Induction:

 Is class me kya hai aap samaj hey gaye hoge:) . Is me kisi film, Songs, Books jese subject ke liye select kare. Agar aap logo ko Intertain karna chate hai to pick kare

Cause or Community:

 Is course of action me ham Page banate hai kisibhi subject standard or usko share karte hai, Is me ham compose bhi bana sakte hai jisme jo bhi log us mastermind me hoge bo sabhi post kar sakege jabki dusri categorys ke pages me aesa nahi hota.

To abs aap ye to samaj gaye ki aap ko kis class me apna Page banana hai. Agar koi dout hai ki Page ke liye konsi gathering shi rahegi to weight tangle lijiye ham Page ki portrayal baad me bhi change kar sakte hai.

Abhi aap logo ko batane ke liye me Brand and Product ko Select karleta hu q ki muje ek site ke liye ek page banana hai.

site ko select kare

Drop-down Menu standard snap kare

Site ko Select kare

Page ka naam likh kar begin standard snap kare

Page ka Naam Daale

Begin standard snap kare

Step: 3

Stomach muscle jo agla page khulega.

page ke baare me bataye or apni site ka interface daale.

Aapne page ke uncovered me 2 line likhe ki aapke page standard kya hai taki log usko cushion kar samaj reason or aapke page ko like kare

Apni site ka interface dale.

Spare Info standard snap kare.

Stage 4:

apna picture trade kare

Agli step me aapko apne page ke liye ek profile picture select karna hogi, aap chahe to ye step skip bhi kar sakte ho or baadme apni picture select kar sakte ho.

Apne PC se picture trade karne ke liye click kare.

Agar online koi picture hai to uska relate daalkar bhi picture daal sakte ho.

Stage 5:


page ko favrate me spare kare

Agar aap is page ko apne Favorites me add karna chate ho to Add to Favorites standard snap kare. Top picks partition aapke facebook purpose of entry standard hota hai

ya fir Skip standard snap kare.

Stage 6:

page ke liye audiance ko select kare.

Is page me aapse pucha jaayega ki aap is page ko kon-kon dikhsakta hai –

Zone:

 is me aap nation, ya fir koi city daal sakte hai. jo put aap select karege bahi ke log aapke page ko dekh or like kar paayege

Age:

 yaha standard aap age select kar sakte hai ki konsi umr ke log aapke is page ko dekhe.

Sex:

 Is me aap select kare ki aapka page Sirf Admi dekhe ya sirf orat dekhe ya dono.

Interests:

 Is partition me aap apne entranced page select kar sakte hai.

Skip:

 Agar aap ye sab setting nahi chate to Skip ki get standard snap kare. Me aapko Suggest karuga ki aap Skip kare taki puri duniya me sabhi log aapka page dekh reason or like kar reason.

Ye Lijiye Aapka Facebook Page Teyaar hai.
Read More

Friday, August 24, 2018

How to sat custom robotsheader settings?

August 24, 2018 0

Every blogger wants huge organic traffic on his/her blog. For that we need to optimize our blog for search engine to increase the visibility of our blog. We can customize our blog pages for better SEO by telling search engines that what part of our blog they have to crawl and what not to. For that we also discussed previously custom robots.txt for blogger (blogspot) but thats not all. We need to take care of every SEO setting so that we can play well in search engines.

Custom Robots Header Tags not only specifies crawling way for search engines but also for open directories, indexing no images, not translating our pages, disabling search engines to save cached copy of our pages and so on. 
So lets start the tutorial.

What is Robots Header Tags? 

Firstly, we must know about what is robots header tags before adding them to our blog. So we will specify each option briefly here :
1. all : This tag allows crawlers to crawl your blog freely without any boundations.They can easily index, crawl and expose your contents.
2. noindex : This is for secret blogs like if your blog is for private use then you must try to hide the url from exposing it publicly. So this tag lets crawlers to stop crawling your blog.
3. nofollow : All your outbound links are dofollow by default. This let search engines creep upon your pages you page bounded to. If you don't want search engines to look at your outbound links then this tag will helps you.
4. none : It is a combination of noindex and nofollow. You can set it accordingly as per your needs.
5. noarchive : Search engines sometimes saved a copy of your blog pages and show it as cached copy. Enabling this tag do not let crawlers saved cached copy.
6. nosnippet : If you want to keep your post contents secret then you can enable this tag.
7. noodp : This tag disable crawling your blog by Open Directories.
8. notranslate : Enabling this tag do not allow translation of your blog pages.
9. noimageindex : As specified by the name, this tag disable indexing your blog images.
10. unavailable_after : This let webpage indexing after a specified time.
Now, I hope you understood the robots header tags. So now lets start adding these tags to your blog.

Adding Custom Robots Header Tags in Blogger :

Simply follow the below steps to proceed with this.
Step 1: Visit blogger.com and sign in to your account. 
Step 2: Then go to Settings >> Search preference. There you can see a setting called Custom robots header tags under Crawlers and Indexing. Click the Edit link.

Step 3: At this step, Click on Yes.

Step 4: Now, you will get a set of checkboxes. It looks complicated but trust me its not! Just refer to the below image for best settings.
Read More

Monday, August 20, 2018

WordPress mein redirecting issue ko kaise theek karen?

August 20, 2018 0

Running a self hosted WordPress.org site has a lot of benefits, but at times some easily solveable errors can irritate beginners. White screen of death, Internal server error, and some other common WordPress errors can be really stressing for new users. Recently a user pointed our attention to ‘Too Many Redirects’ error in WordPress. It is a common issue that WordPress users may come across. In this article, we will show you how to fix error too many redirects issue in WordPress.

On Firefox, this error will be displayed like this:

“The page isn’t redirecting properly. Firefox has detected that the server is redirecting the request for this address in a way that will never complete.”

WordPress redirect error displayed in Firefox

Why I am Getting Error Too Many Redirects in WordPress?

This error usually occurs due to a misconfigured redirection issue. As you know that WordPress has SEO friendly URL Structure which uses the redirect function. Several other popular WordPress plugins also use the redirect functionality. For example, WordPress SEO plugin allows you to remove category base from category URLs by redirecting users to a URL without category base. WordPress SSL and cache plugins also use redirects.

Due to a misconfiguration in any of these redirection tools, your site may end up redirecting users to a URL that is actually redirecting them back to the referring URL. In that case the user’s browser is trapped between two pages and hence you see the error.

Error too many redirects as shown in Google Chrome

How to Solve Too Many Redirects Error in WordPress?

The most common misconfiguration that we have come across repeatedly is when a user has incorrect URL in WordPress Address URL or Site Address URL settings.

WordPress and Site Address settings

For example, lets assume that your site’s url is http://www.example.com and you go to Settings » General and set it to http://example.com. Most web hosts allow you to choose whether you would like to add a www prefix to your domain name or have it without www. In case you had selected to add www to your URL, then adding http://example.com in your WordPress settings will cause the error. Or if you opted to use your domain without www prefix, then adding it with www prefix in WordPress settings will cause this error.

When a user will come to http://example.com, they will be redirected by your server’s configuration to http://www.example.com where they will be redirected back to http://example.com by WordPress because that’s what you have set up in the settings.

If your site was working fine, and you you did not make any changes to those settings. Then you need to contact your web host, because it is most probably a configuration issue at their end.

However, if you do not have a reliable WordPress hosting provider, and they deny having any issues and/or refuse to help you, then you should consider switching web hosts or fix it yourself.

To fix this, you need to change your WordPress Address and Site Address. Go to Settings » General, change your WordPress and Site Address. If you have your address with www prefix, then change it to non-www URL, and if you have it with non-www URL then add the www prefix.

Important: Make sure that you don’t leave a trailing slash at the end of your URL like http://www.example.com/

Change Site URL Without Access to Admin Area?

In case you don’t have access to WordPress Admin area, you can still update these settings by defining them in wp-config.php file. Simply connect to your website using an FTP client. Once you are connected to your site, you will find wp-config.php file in your site’s root directory. You need to download and edit this file using a text editor like Notepad. Simply add these two lines to the file and don’t forget to replace example.com with your own domain.

1

2

define('WP_HOME','http://example.com');

define('WP_SITEURL','http://example.com');

Save the file and upload it back to your web server. Now try to access your WordPress site. If you still can not access your site, then try to add your domain with www prefix.

Fixing Other Redirect Issues?

If the previous step did not solve your problem, then it is likely that there is a plugin issue with your site. As we mentioned earlier that several WordPress plugins use redirection techniques to do a variety of things. We will try to help you troubleshoot.

First you need to figure out is which plugin is causing the issue. Did you activate a new plugin recently right before this error happened? Did you update plugins right before this error happened? If the answer to any of the above questions is YES, then it narrows the problem down to that plugin. You can simply deactivate that plugin by deleting that plugin’s folder from wp-content/plugins/

If you do not know which plugin is causing the issue, then you would need to do some trial and error. The quickest way to do this is by deactivating all plugins. After deactivation of all plugins on your site, you need to use FTP to download the .htaccess file as a backup. You can find this file in your site’s root directory. Once you have downloaded the file, delete it from your server. Now try to access your site.

This process will allow your server to regenerate a new .htaccess file, and since there are no plugins activated, it will most likely fix the issue. If the error is gone now, then you know for certain that it was a plugin causing this error.

The next step is to find out which plugin was the culprit. To do this, you need to download and install fresh copies of all your plugins. Activate plugins one at a time and after activating each plugin try to browse several pages on your site using a different browser as a non-logged in user. Hopefully you will find the plugin that caused the issue.

These are all the possible solutions that may fix this “error too many redirects issue” in WordPress. Did any of the above solutions fixed the problem for you? If so, then please let us know in the comments. Have you encountered the error too many redirects issue in the past? how did you fix it? If you know a fix that is not listed in the article above, then please contribute in the comments below. We will make sure to keep the article up to date with any new advice from our users.

 

 

                                                                                 THANKU

Read More

Thursday, August 9, 2018

Computer Virus

August 09, 2018 0

computer virus 

वर्तमान में सामान्य कंप्यूटर user के कंप्यूटरों में वायरस के कारण समस्या उत्पन्न होती रहती है ! इस के कारण कभी कंप्यूटर स्क्रीन पर विभिन प्रकार की अक्रती या चिन्ह प्रदर्शित होते रहते है , अथवा कंप्यूटर अन्दर ही अन्दर कुछ प्रोग्रमिंग  करते रहते है , जिस के कारण user को अपने डेटा को खोना पड़ता है ,और जिस से user हार्ड डिस्क में से डेटा को एक्सेस नही कर पता है !

what is computer virus

कंप्यूटर virus कुछ निर्दाशो का ऐसा शक्तिशाली प्रोग्राम होता है , जो अपने तरीके से कंप्यूटर को चलता है ,ये virus किसी भी समान्य कंप्यूटर से जुड़ जाता है ! कंप्यूटर virus का प्रमुख कार्य केवल कंप्यूटर मेमोरी से डेटा को ख़त्म destroy करना होता है तथा सम्पर्क में आने वाले सभी प्रोग्रामो को संक्रमित करना होता है , तथा virus कंप्यूटर प्रणाली को बन्द कर देता है ! 

History of virus 

बतया जाता है की पाकिस्तान में रहने वाले दो भाइयो ने virus प्रोग्राम बनाया था ,उन दोनों ने सी - अशर सी -ब्रेंन नाम के virus बनये थे ,इन दोनों में से सब से चर्चित         सी -ब्रेंन रहा था ! 

Symptoms of virus Infection 

1. कार्यकरी  प्रोग्राम को मेमोरी में बिना लोड किये RAM का कम हो जाना !

2. बिना किसी कारण किसी फाइल का आकार बढ़ना या घट जाना !

3. फाइलो की  संख्या बढ़ जाना !

4. 'की' बोर्ड का अचानक से कार्य करना !

5. कंप्यूटर का हैंग होना आदि !

Type of Computer Virus

वायरस प्रोग्राम तीन प्रकार के होते है - Boot Sector Virus , File Virus , Other Virus

1. Boot Sector Virus - इस प्रकार के virus हार्ड डिस्क अथवा Disk Operating System की boot डिस्क के शून्य (0) सेक्टर में अपना संक्रमण फैलाते है, यह वारस  हार्ड डिस्क में मैजूद  Partition Table को भी बदल देते है ,इस प्रकार यह वारस कंप्यूटर के start होते ही ,सबसे पहलें operating system के स्थान पर खुद को मेमोरी में लोड करता है ! 

प्रमुख boot sector virus निम्नलिखित है - सी -ब्रेंन,स्टोन, पिंगपांग, 1701,वियेना,पैंटागन,1704

 2.File Virus -  जैसे नाम से ही पता चलता है की इस प्रकार के virus कंप्यूटर की प्रोग्रामि फाइल में प्रवेश कर जाते है ! ये virus COM, EXE,SYS, OVL,तथा BIN फाइल को ही अपना शिकार बनाते है ! ये virus फाइल के आकार को प्रभवित करता है ! कुछ फाइल virus इस प्रकार है - FRIDAY 13, 8290 virus , रेनड्रॉप वायरस, 684 वायरस !

3. Other Virus -  ट्रोजन और वर्म 

A Modern Virus

एक रिपोर्ट के अनुसार 26 अप्रैल सन 1999 को अचानक अकेले भारत में लगभग दस हजार कंप्यूटर इससे प्रभावित हुए ! इस का करण था एक virus ,जिसने  इन कंप्यूटर को ठप कर दिया था ! इस virus का नाम W95.CIH है

 Anti Virus Programme

कंप्यूटर में virus की उपस्थति की जानकारी देने के लिये और कंप्यूटर  को virus से मुक्त करने के लिये विषेस softwaer आज बाजार में उपलब्ध है ! इन softwaer को Anti virus programme कहा जाता है ! ये Anti virus program अन्य कंप्यूटर प्रोग्राम्स की भाति ही होता है !प्रत्येक virus को पहचानने का एक विशेष तरीका होता है ! जिन virus को पहले पकड़ा जा चुका है , उनकी पहचान के तरीके इन ' Anti virus program' में रिकॉर्ड होता है !

किसी भी एंटी virus प्रोग्राम को खरीदते समय कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए !

1.एंटी वायरस प्रोग्राम को कंप्यूटर में स्थापित करना तथा प्रयोग करना सरल हो !

2.एंटी वायरस प्रोग्राम के साथ आवशयाक  जानकारी हो तथा अपग्रेड करना सरल हो !

3.एंटी वायरस प्रोग्राम आवशकता होने पर TSR की भाति कार्य कर सके !

4.एंटी वायरस प्रोग्राम boot sector तथा मास्टर boot रिकॉर्ड की जाच  करने में सक्षम हो !

5.एंटी वायरस प्रोग्राम को स्मार्ट एंटी  virus प्रोग्राम होना चाहिए !

6.एंटी वायरस प्रोग्राम नेटवर्क के लिये भी सक्षम होना चाहिए !

7.एंटी वायरस प्रोग्राम विभिन्न Encryption तकनीको से लड़ने के लिये उपयुक्त  हो !







Hello dosto kase ho aap agr aap ko yh jankari acchi lagi ho to like kre or comment me btae ki yh jankari aap ko ksi lagi , agr koi problam ho to hume btae hum use solv kr ke aap ko btae ge.

aaj ke leye bs itna he..............fir milage...................
                                                                                 THANKU
Read More

Friday, July 6, 2018

NETWORKIN

July 06, 2018 0

 NETWORKING

सुचना वितरण के लिये सबसे अधिक सुरक्षित विधि कंप्यूटर मशीन को आपस में जोड़ना है ! इस प्रकार एक स्थान से दूसरें स्थान तक  पहुचाने के लिए एक से अधिक  कंप्यूटर को जोड़ने पर  बनने वाले  कंप्यूटर के समहू  को  कंप्यूटर नेटवर्क  कहते  है ! नेटवर्क की  अवधारणा  लम्बे समय  से  चली  आरी है ! नेटवर्क को एक (interconnected system ) कहा जाता  है  जिसमे टेलीवीजन बोर्डकास्टिंग  नेटवर्क ,सेलुलर  फ़ोन नेटवर्क , कोरियर  नेटवर्क इत्यादि ! अब  कंप्यूटर को सीधे कंप्यूटर  द्वारा  ही  सूचनाये  प्रदान  करने  के  प्रयास  प्रारंभ  हो गए ! सबसे  पहले  एक  ऐसी  प्रणाली  का विकास  हुआ  जिसमे  दो  कंप्यूटर  में  अतरिक्त  हार्डवेयर  व  सोफ्टवेयर  का प्रयोग  करके  उन्हें  एक  केबल  द्वारा   जोड़  कर सीधे  ही  सूचनाओ  का  आदान  प्रदान  किया  जा  सकता  था ! इसमें कंप्यूटर ,केबल्स के एक जाल में आपस में जुड़े रहते है  और सूचनाओ का आदान-प्रदान जल्दी से होता जाता था ! कंप्यूटर के इस जाल को कंप्यूटर नेटवर्क नाम दिया गया !

कंप्यूटर नेटवर्क  के दो प्रमुख प्रकार -LAN and WAN

  • LAN (Local Area Network ) - इस प्रकार के नेटवर्क छोटे होते है 1 इनका क्षेत्र  एक कमरे में रखे कंप्यूटर अथवा इमारत के विभिन्न  कमरो में रखे कंप्यूटर तक ही सीमित होते है ! इस नेटवर्क में जुड़े कंप्यूटर की संख्या कम होती है  !जब एक से अधिक कंप्यूटर केबल से जुडकर एक नेटवर्क स्थापित करते है , तब यह नेटवर्क LAN कहलाता है ! LAN किसी भी कंप्यूटर नेटवर्क की नीव होता है ! 
  •  WAN (WIDE Area Networking)-WIDE AREA NETWORK का क्षेत्र सीमित नही होता है ! यह कंप्यूटर और नेटवर्क -उपकरणों को पृथ्वी के एक कोने को दुसरे कोने तक जोड़ता है ! एक (WAN ) अनेक Local Area नेटवर्क से निर्मित होता है ! जो आपस में संचार माध्यमो ;जैसे-cable.Telephone Lines , Satttelites के माध्यम से जुड़ा होता है ! इस नेटवर्क का प्रयोग कर के एक स्थान से दुसरे स्थान पर सुचना का अदन -प्रदान कर सकता है ! Internet WAN का एक अच्छा उदहारण है !
  • कंप्यूटर नेटवर्क का वर्गीकरण - 

    कंप्यूटर नेटवर्क को दो भागो में बाटा गया है -  peer-to-peer network , and server based network.
    1. PEER-to-PEER Network

      Peer -to-Peer नेटवर्क  में न तो कोई Dedicated Server होताहै और न ही कंप्यूटर के मध्य  (Hierarchy) क्रम होता  है  सभी कंप्यूटर एक समान होते है ; अत उन्हें peersकहा जाता है ! नेटवर्क का प्रतिएक कंप्यूटर , Client और  Server दोनों के रूप में कार्य करता है  !नेटवर्क का Administrator सम्पूर्ण नेटवर्क को  को  Administrateकरने के लिये उत्तरदाये नही होता है !  peer-to-peer नेटवर्क  को  Work group भी कहा जाता है ! peer-to-peer में 10 या इससे कम कंप्यूटर होते है ! 
    2. Server Based Networks

      •  Network Topology 

          नेटवर्क स्थापित करने में एक से अधिक कंप्यूटर की आवशकता  होती है ! तथा इन कंप्यूटर को जोड़ने के तरीकों को नेटवर्किंग की भाषा में नेटवर्क टोपोलॉजी  कहते है ! यह निम्न प्रकार की होती है ! 
        1. Bus Topology -- Bus Topology को Linear Topology भी कहते है ;क्योकि इसमें सभी कंप्यूटर सीधी लाइन में जुड़े होते है ! यह कंप्यूटर की नेटवर्किंग करने का सबसे आसन तरीका है ! इसमें सभी कंप्यूटरों को एक ही केबल जिसे (Bus) भी कहा जाता है के मध्यम से एक ही लाइन में जोड़ा जाता है ! इस केबल को (Trunk) अथवा Communication Channel भी कहा जाता है !बस टोपोलॉजी में यदि इस केबल में कोई खराबी आ जाती ह तो इस टोपोलॉजी पर आधरित नेटवर्क कार्य करना बन्द कर देता है! बस टोपोलॉजी नेटवर्क में एक समय में एक ही कंप्यूटर डेटा Transmit कर सकता है !                                                                                                                            

        2.Ring Topology

      Ring Topology , Bus Topology के समान होते है ! दोनों में अंतर यह है की बस टोपोलॉजी में डेटा Open Circuit ने  जाता है , जबकि Ring topology में डेटा एक Closed  Circuit में होता है !इस टोपोलॉजी में बस टोपोलॉजी की भाति  इसमें केबल का कोंई भी End Terminated नही होता है ! नेटवर्क में डेटा Signal Loop में एक ही दिशा में Travel करते है और प्रतिएक कंप्यूटर से होकर गुजरते है !प्र्तियेक  कंप्यूटर एक Repeater की भाति  कार्य करता है और डेटा -सिगनल को Boost अथार्त Amplify करके अगले कंप्यूटर को भेजता है ! इस टोपोलॉजी में अगर एक कंप्यूटर के फ़ैल (Fail) होने  का  प्रभाव सम्पूर्ण नेटवर्क पर  पड़ता है !

      • Star Topology

        Star Topology की विशेष बात यह होती है की इसमें कंप्यूटर से जुड़े केबल के टुकड़े को Centralized Device जिसे Hub कहते है ,से जोड़ा जाता है ! इस नेटवर्क में यदि HUB fail हो जाता है तो पूरा नेटवर्क Down हो जाता है ! परन्तु यदि HUB से जुड़ा कोई एक कंप्यूटर अथवा cable fail हो जाता है ,तो कवेल कंप्यूटर नेटवर्क से अलग हो जाता है !

       
Hello dosto kase ho aap agr aap ko yh jankari acchi lagi ho to like kre or comment me btae ki yh jankari aap ko ksi lagi , agr koi problam ho to hume btae hum use solv kr ke aap ko btae ge.
aaj ke leye bs itna he..............fir milage...................
                                                                                 THANKU
Read More

Friday, June 29, 2018

DATA REPRESENTATION

June 29, 2018 0

 कंप्यूटर में डेटा रिप्रजेंटेशन (Data)

 कंप्यूटर डेटा को एसे रूप में संचित करता है , जिसको मानव सीधे-सीधे नही समझ सकता है ! इसीलिए कंप्यूटर में input और output Interface की आवश्यकता होती है ! प्रतिएक कंप्यूटर , अंको ,अक्षर तथा अन्य विशेष चिन्ह को एक कोड के रूप में संचित करता है ! ये कोड दो अंको 0 व 1 से निर्मित होते है !
कंप्यूटर केवल Machine Language को ही समझ सकता है Machine Language में 0 और 1 अंको का प्रयोग होता है ! अंको के प्रयोग को जानने के लिये हमें Number System को समझ ना होगा ! 
मूल रूप से number system दो प्रकार के होते है - NON-POSITIONAL NUMBER SYSTEM & POSITIONAL NUMBER SYSTEM .

 
NON-POSITIONAL NUMBER SYSTEM

प्रारम्भिक कल  में गिनती करने के लिये मानव अपनी ऊँगली का प्रयोग करता था ! इसके बाद उसने कंकडों और छड़ी का प्रयोगे गिनती करने के लिये प्रारम्भ किया ! गिनती करने की इस विधि में योगात्मक (Additive) अथवा NON-POSITIONAL NUMBER SYSTEM का प्रयोग किया जाता है !
इस पद्धति में यदि हम अंक 1 के स्थान पर ‍‌Ⅰ चिन्ह का प्रयोग करें , तो अंक 2 के लिए , अंक 3 के लिए , अंक 4 के लिये ⅢⅠ , अंक 5 के  लिए ⅢⅡ आदि का प्रयोग किया जएगा ! इस पद्धति में प्रत्येक चिन्ह एक ही मान दर्शाता है !  इस number सिस्टम के साथ विभिन्न अंकगणित प्रिक्रियाओ को करना अत्यन्त कठिन था ! इस लिये POSITIONAL NUMBER SYSTEM का विकाश हुआ !

 POSITIONAL NUMBER SYSTEM

POSITIONAL NUMBER SYSTEM  में कुछ विशेष चिन्ह का प्रयोग किया जाता था ! ये विशेष चिन्ह  Digit कहलाते है ! इन डिजिट्स का मान संख्या में इन की स्थिति पर निर्भर करता है ! वर्तमान में POSITIONAL NUMBER SYSTEM का ही प्रयोग किया जा रहा है ! इस number सिस्टम में डिजिट का उस स्थिति के साथ -साथ प्रयोग किये जा रहे नंबर सिस्टम पर निर्भर करता है !

Type Of Number System

  1. Decimal number System
  2. Binary Number System
  3. Octal Number System 
  4. Hexadecimal Number System
  • Decimal Number System

    दशमलव नंबर सिस्टम में 0 से 9 तक के अंक प्रयोग किये जाते है अथार्त -
    0,  1,  2,  3,  4,  5,  6,  7,  8,  9
    इस प्रकार हमनें देखा की 0 से 9 तक कुल 10 अंक प्रयोग किये गये ! इसलिये दशमलव number सिस्टम का आधार 10 होता है ! इस नंबर सिस्टम के अन्तर्गत हम जो भी संख्या लिखते है , उसका आधार 10 दर्शाता है ,जैसे-यहाँ पर 761891 संख्या है और 10 उसका आधार है जो यह दर्शाता है की यह संख्या Decimal Number System में है ! (761891) (base)10

  • Binary Number System

 इस number सिस्टम का प्रयोग मुख्यतः कंप्यूटर में कार्य करने के लिये किया जाता है ! इस number सिस्टम में 0 व 1 अंक का प्रयोग किया जाता है ! कंप्यूटर में प्रत्येक सदेश 0 व 1 के रूप में स्टोर होता है ! इस प्रकार इस में केवल दो अंक प्रयोग किये जाते है ! इस लिए Binary नंबर सिस्टम का आधार(base) दो दर्शाया जाता है ! -  (1010)2
  • Octal Number System

    इस नंबर सिस्टम के अन्तर्गत 0 से 7 के अंको का प्रयोग किया जाता है , अथार्त - 
    0,   1,  2,  3,   4,  5,  6,  7 
    इस में कुल 8 अंको का प्रयोग किया जाता है इस number सिस्टम का आधार(base) 8 दर्शाया जाता है ! बहुत कंप्यूटर जैसे -IBM-7090 , PDP7, PDP8 आदि में Octal Number  System का प्रयोग सुचना का अदन -प्रदान करने के लिये किया जाता है !
    (3027)8 

    Hexadecimal Number System

    यह एक ऐसा नंबर सिस्टम है जिसमे अंको के साथ -साथ अंग्रेज़ी वर्णमाला में प्रयोग किये जाने वाले अक्षर A,  B,  C,  D,  E,  F भी प्रयोग किये जाते है ! इन NUMBER सिस्टम का आधार 16 होता है ! 16 आधार (base)के लिये यह NUMBER सिस्टम 0,  1,  2,  3,  4,  5,  6,  7,  8,  9,  तक के अंक तथा 10,  11,  12,  13,  14, 15 के लिये क्रमशः अंग्रेज़ी वर्णमाला के अक्षर का प्रयोग किया जाता है !
                                               (ED6) base(16)
     


  • Conversion from Decimal Number System to Binary Number System

Decimal Number सिस्टम में लिखी  गई संख्या को Binary Number सिस्टम में बदलने के लिये उस संख्या को 2 से भाग (Devide) करते है ! संख्या को तब तक devide करते है जब तक भागफल (QUOTIENT ) 0 प्राप्त नही हो जाता है !
 यह हम (79)10 को Binary number में convert करें गे !
                                  भाग                                      भागफल                           शेषफल
पहली                        79/2                                             39                                   1
दूसरी                         39 /2                                            19                                  1
तीसरी                        19/2                                              9                                   1
चौथी                           9/2                                               4                                   1
पाचवीं                        4/2                                                2                                   0
छठी                          2/2                                                 1                                   0
सातवीं                       1/2                                                  0                                   1   ↑
                                           (1001111) base(2)
  इसे हम नीचे से उपर की तरफ लिखते है !
  • Conversion form Binary Number System to Decimal Number System 

    Binary number system को Decimal number सिस्टम में बदलने के लिये हम Binary संख्या को left to right दो (2) घात(DIMENSION) को 0 से एक  एक बढ़कर तब तक गुणा ( MULTIPLICATION) कर के आपस में जोड़ते रहते है जब तक Binary संख्या का बाया (left) अंक न बचे !
    अब हम (11011001)2 को Decimal number सिस्टम में बद्लेगे !

    संख्या जो दशमलव वाली binary number सिस्टम की संख्या है तो decimal number सिस्टम की तरह बद्लेगे ! 
    इसे प्रकार हम सभी number सिस्टम को एक -दुसरे में बदल सकते है !



     



🙏Hello dosto kase ho aap agr aap ko yh jankari acchi lagi ho to like kre or comment me btae ki yh jankari aap ko ksi lagi , agr koi problem ho to hume btae hum use solve kr ke aap ko btae ge.
aaj ke leye bs itna he..............fir milage...................
                                                                                 😍😍THANKU👍👍
Read More

Wednesday, June 20, 2018

Components to Information Technology

June 20, 2018 0

Components-

Information विशव की धुरी है ! सम्पूर्ण विशव सूचनाओ के इर्द-गिर्द ही मंडरा रहा है !सूचनाओ का अपना एक विस्तृत स्थान है ,सूचनाओ की कोई सीमा नही होती है ! इन विभिन्न प्रकार की सूचनाओ को प्राप्त करने के लिए प्रयोग में लाये जाने वाली तकनीक Information Technology  कहलाती है ! सूचनाओ को एक स्थान से दुसरे स्थान पर भजने के लिए नये प्रयोग हो रहे है ! डाक सेवा , टेलीफ़ोन ,रेडियो , एव उपग्रह संचार प्रणाली इन्ही प्रयत्न का परिणाम है !  
Information Technology के प्रमुख components है - Hardware & software

Hardware

कंप्यूटर के सभी भाग जिन्हें हम छु व देख सकते है ,हार्डवेयर कहलाते है ! कंप्यूटर के बहार व अंदर के सभी भाग ,कंप्यूटर की input व output यूक्तिया आदि सभी हार्डवेयर है !
वे युक्तियाँ (Devices),जो कंप्यूटर को चलाये जाने के लिये अवश्यक है ,Standard Devices कहलाती है ; जैसे-की -बोर्ड ,फ्लापी ड्राइव ,हार्डडिस्क आदि एवम् इन  Devices के अतिरिक्त वे  Devices जिनको कंप्यूटर से जोड़ा जाता है ; जैसे - माउस , प्रिंटर, आदि Peripheral devices कहलाती है ! Standard Devices व Peripheral devices दोनों मिलकर जो सिस्टम बनती है हार्डवेयर कहलाते है !

Software

कंप्यूटर व उस से जुडी device से कार्य   करने के लिये software का प्रयोग किया जाता है ! इन्हे देखा नही जा सकता है ! कंप्यूटर भाषा में बनाया जाता है , कंप्यूटर पर कार्य करने के लिये एक विधि एवम् व्यवस्थित निर्देशओ के समहू को progrem या softwaer कहते है ! 

Hardware & Its Functioning

Hardwaer को तीन भगा में बाटा गया है -
1. Input Unit
2.Output Unit
3.Central Processing Unit

1.Input Unit 

इनपुट यूनिट user से data और Instruction को Accept कर, उन्हें प्रोसेस करने के लिये प्रोसेसिंग यूनिट को पास कर देता है ! प्रोसेसिंग यूनिट Instruction के आधार पर Data को Process करता है !
 कंप्यूटर सिस्टम में Data और Instruction को किसी input device के माध्यम से input किया जाता है !
input device सबसे पहले input किए गए डेटा  और instruction को 0 और 1 यानी Binary रूप में Convert करता है ! और फिर उन्हें Memory में input कर देता है ! 

2.Output Unit

आउटपुट यूनिट प्रोससे हुए data व Information  को देखता है ,जो CPU दुआरा भेजा जाता है ! जब Information Monitor स्क्रीन पर show होती है ! तो उसे Information की Soft copy कहते है ,तथा जब Information  को printer के दुआरा print करते है ,तो उसे Hard copy कहते है ! Output Dvice का प्रयोग कंप्यूटर दुआरा Proces कये गए data और instruction व Information अथवा result और कंप्यूटर में स्टोर किये गए डेटा को प्रदर्शित करने के लिये क्या जाता है ! Monitor और Printer सर्वाधिक लोकप्रिय व प्रचलित output device है !

3.Central Processing Unit

Central Processing Unit input यूनिट दुआरा प्राप्त instruction के आधार पर Data को Process क्र परिणाम को output यूनिट को भेज देता है ! डेटा को प्रोसेस करने से पूर्व प्रोसेसिंग यूनिट यह भी निर्णय लेता है की कौन -सा Instruction, Arithmetic Unit है या Logical  Unit है ! CPU का प्रमुख कार्य Procesing Jobs को  पूरा करना है ! छोटे कंप्यूटर के processing यूनिट में साधारण एक ही प्रोसेसर होता है ; जबकि बड़े कंप्यूटर को processing यूनिट में एक से अधिक प्रोसस्सोर्स हो सकते है , जिसमे अलग -अलग  दए गए प्रोसेस Execute किए जाते है !

Type Of Input Devices

 वे deviceजिनकी सहायता से कंप्यूटर को Instruction भेजी जाती है , input devices कहलाती है !
Mouse, Tracker Ball, Joystick, Hand-Heid Terminal, Microphone आदि input devices है !

key-Board :- कंप्यूटर का Key-Board एक सामान्य टाइपराइटर के Key - Board के समान होता है ,परन्तु इस में  'किज' की संख्या अधिक होती है! इस Key -board पर काम करना आसन होता है ! यदि कसी key को आधा सेकंड से दबाय रखे तो वह अपने आप दोहराने  लगती है ! की -बोर्ड दुआरा भेजा जाने वाला डेटा 0 तथा 1 बिट में बदल कर दो प्रकार से CPU में जाता है !इस आधार पर की -बोर्ड दो प्रकार के होते है ! Serial-key board , Parallel-key board !

Mouse :-  इसे मिक्रोमाउस भी कहते है ! माउस प्लास्टिक के चूहे के आकार का होता है ! पर्सनल कंप्यूटर के साथ उपयोग में आने वाले माउस में एक ball लगी होती है ! इस के Axis पर दो चक्के होते है ! जैसे-जैसे माउस को ड्राइंग पर घुमया जाता है , वैसे-वैसे कर्सर स्क्रीन पर घूमता है ! 

Tracker Ball , Joystick , Microphone, 

 Type of output devices :- 

VISUAL DISPLAY UNIT , CRT MONITER , LCD MONITER ,  PRINTERS
Read More

Sunday, June 17, 2018

Types of computers

June 17, 2018 0
अनुप्रयोग के आधार पर कंप्यूटरों के प्रकार (types of computers on the basis of application)
अनुप्रयोग के आधार पर कंप्यूटर को तीन भागो में बाटा गया है !
1.Analog computer  2.Digital computer  3.Hybrid computer

Analog computer

 एनालॉग कंप्यूटर एक ग्रीक भाषा का सब्द है ! जिस का अर्थ किन्ही दो राशियो में समरूपता को तलाश करना है ! एनालॉग कंप्यूटर का प्रयोग किसी भौतिक क्रया का रूप बना कर लगातार जरी रखने के लिये किया जाता है
किसी भौतिक क्रया को गणितीय समीकरण में परिवर्तित करके एनालॉग कंप्यूटर के एम्प्लीफायर बॉक्स की सहायता से इसके अनुरूप विधुत परिपथ बनाकर इसे पूर्वनिर्धारित प्रक्रिया दुआरा इलेक्ट्रॉनिक मॉडल बनया जाता है ! एनालॉग कंप्यूटर का प्रयोग science व इंजीनियरिंग के छेत्र में  प्रयोग किया जाता है ! क्योंकि इन छेत्र  में Quantities का अधिक प्रयोग होता है! इन कंप्यूटर से पूर्णत: शुद्ध परिणाम प्राप्त नही होता है ! परन्तु  99% तक शुद्ध परिणाम प्राप्त किए जा सकते है ! इन कंप्यूटर में भौतिक मात्राओ( Quantities) जैसे - दाब, तापमान , लम्बाई  आदि को माप कर उनके परिणाम को अंको में परिवर्तित करके देखते है !

Digital computer

डिजिट का अर्थ है -अंक ! डिजिटल पद्धति में अंक अपने स्थान को विस्थापित हो सकते  है ! इलेक्ट्रॉनिक अथवा घडी डिजिटल पद्धति पर ही आधारित है !इन में सभी अंक 8 पर आधरित होती है ! 
डिजिटल कंप्यूटर Binary system पर आधारित होता है !इसमें मेमोरी  के विभिन्न खानों में बाइनरी कोड 0 व 1 के दुआरा switching करके किसी भी अक्षर या अंक की रचना की जाती है ! जिस खाने में बाइनरी कोड 1 के दुआरा सिगनल जाता है ! वह सक्रिये हो जाता है ! डिजिटल कंप्यूटर सभी गणना अंकगणित  को आधार मानकर
करता है डिजिटल कंप्यूटर किसी भी डेटा को बाइनरी में बदल देता है !

Hybrid computer

हाइब्रिड कंप्यूटर का अर्थ - संकरीत अथार्त अनेक गुण -धर्म यूक्त होना ! एनालॉग व डिजिटल दोनों कंप्यूटर के गुणों को मिलाकर हाइब्रिड कंप्यूटर को बनाया गया है ! एनालॉग कंप्यूटर में किसी भी सिस्टम के नियंत्रण के  लिये एक ही छन में दिशा निर्देश प्राप्त हो जाते है ! हाइब्रिड कंप्यूटर इन निर्देश को डिजिटल निर्देश में परिवर्तित 
करने के विषेस यंत्र का प्रयोग करते है ! मॉडल इस प्रकार का एक यंत्र है ! यह एनालॉग संकेत को डिजिटल
संकेत व  डिजिटल संकेत को एनालॉग संकेत में बदलने का काम करता है !




types of computer on the basis of size and technique 

आकार और  तकनीक के आधार पर कंप्यूटर चार प्रकार  के होते है - माइक्रो कंप्यूटर ,मिनी कंप्यूटर , मेनफ्रेम कंप्यूटर और सुपर कंप्यूटर !

Micro Computer


तकनीकी के आधार पर माइक्रो कंप्यूटर सबसे कम कार्य छमता रखने वाला कंप्यूटर , परन्तु यह कार्य  के लिए उपयोगी होता है ! इन कंप्यूटरों के विकाश  में  जो सबसे बड़ा सहयोग हुआ वह था 1970  में माइक्रो प्रोसेसर का अविष्कार ! यह कंप्यूटर छोटे व सस्ते होते है इसलिए ये व्यक्तिगत उपयोग के लिए घर या बाहर किसी भी कार्य में लगाया जा सकते है अत : इन्हे personal computer (p.c) कहते है ! माइक्रो कंप्यूटर में एक ही CPU लगा होता  है !  वर्तमान समय  में माइक्रो कंप्यूटर  का  विकाश  अत्यन्त तीव्र गति से होरा है यह फ़ोन के आकार और यह तक की घडी के आकार में  भी विकशित होरे है !
माइक्रो कंप्यूटर घरो कार्येलये अदि  में प्रयोग किये जाते है माइक्रो कंप्यूटर की सहायता से  कार्येलये का सारा हिसाब -किताब सारी फ़ाइल कंप्यूटर ही  समभालता है !माइक्रो कंप्यूटर का  सबसे प्रचलित रूप  IBM (International Business Machine)है ! 

 

 Mini Computer

Mini computer का आकार लगभग माइक्रो कंप्यूटर जैसे होता है परन्तु कार्य छमता मिनी कंप्यूटर की अधिक होती है ! इसका प्रयोग बैंक व बीमा कम्पनियों आदि में कार्य करने के लिये किया जाता है ! मिनी कंप्यूटर की कीमत माइक्रो कंप्यूटर से अधिक होने के कारण इन्हे व्यक्तिगत रूप से खरीदा नही जा सकता है ! इस कंप्यूटर का प्रयोग मध्यम स्तर की कम्पनियों में किया जाता है ! इस कंप्यूटर पर एक से अधिक यूजर्स (user) कार्य के सकते है !मिनी कंप्यूटर की Memory , speed , एवं कार्य छमता माइक्रो कंप्यूटर से अधिक व मेन फ्रेमकंप्यूटर से कम होती है ! इसमें एक से अधिक C.P.U होते है !
सबसे पहला मिनी कंप्यूटर PDP-8एक रेफ्रीजरेटर के आकार का 18000 डॉलर का था ! जिसे डी.ई.सी (Digital Equipment corporation) ने सन 1965 में बनाया  था ! मिने कंप्यूटर के मुख्य भाग को एक बिल्डिंग में रखा जाता था एवम् उसके साथ कई टर्मिनल जोड़ दिए जाते थे ! मिनी कंप्यूटर के अन्य उपयोग यातायात में यात्रियों के लिये अरक्षित-प्रणाली का संचालन और बैंकों में बैंकिंग के कार्य है !

PDP-8 mini computer

   Main Frame computer

यह कंप्यूटर बहुत अधिक शक्तिशाली होता है इन कंप्यूटर की memory,speed माइक्रो कंप्यूटर व मिनी कंप्यूटर की तुलना में अधिक होती है ! इस कंप्यूटर का प्रयोगे नेटवर्किंग के लिये किया जाता है ! इन कंप्यूटर पर बहुत  से टर्मिनल जुड़े  होते है तथा इन टर्मिनल को कहि पर भी रखा जा सकता है !यदि टर्मिनल को मुख्य कंप्यूटर के पास रखा जाता है जैसे एक ही बिल्डिंग में तो इस प्रकार की नेटवर्किंग को local area networking कहा जाता है यदि कंप्यूटर टर्मिनल को मुख्य कंप्यूटर से दूर रखा जाता है तो उसे wide area networking कहा जाता है ! रेलवे में प्रयोग किये जाने वाले टर्मिनल वाइड एरिया नेटवर्किंग का अच्छा उदहारण है ! 
इस कंप्यूटर की गति टर्मिनलों की सख्या ,तारो की लम्बाई के अनुसार बढाती व घटती रहती है !वास्तव में सभी टर्मिनल मेन फ्रेम कंप्यूटर का  प्रयोग करने के लिये एक लाइन में खड़े होते है , परन्तु अधिक शक्तिशाली होने के कारण मेन फ्रेम कंप्यूटर प्रत्येक टर्मिनल का कार्य इतनी जल्दी करता है की user को यह लगता है की कंप्यूटर  केवल उसी का कार्य कर रहा है ! इस प्रकार work करने को Time Shared System कहते है !
P.C.-A.T./386,486, IBM4381,ICL39 और CDC Cyber सृख्ला मेन फ्रेम कंप्यूटर के मुख्य उदहारण है !

Super Computer

यह कंप्यूटर आधुनिक युग का सबसे शक्तिशाली कंप्यूटर है ! इसमे अनेक C.P.U समान्तर क्रिया को समान्तर प्रक्रिया (parallel processing) कहते है ! विशव का पहला सुपर कंप्यूटर I.L.L.L.I.A.C. है ! 
एक C.P.U दुअरा DATA और प्रोग्राम एक धरा (Stream) में कार्य करने की पारस्परिक विचारधारा 'वोन न्युमान सिद्धन्त ' कहलाती है ! लेकिन सुपर कंप्यूटर नॉन-वोन सिधान्त के आधार पर बनाया जाता है ! सुपर कंप्यूटर अनेक  A.L.U CPU  का एक भाग होता है प्रतिएक A.L.U निशिचित  क्रिया के लिए होता है ! इस प्रकार  के कंप्यूटर में बहुत सी इनपुट व आउटपुट डिवाइस जोड़ी जाती है !
सुपर कंप्यूटर का प्रयोग ,बड़ी वैज्ञानिक और शोध प्रयोगशाला में शोध करने ,मौसम की भविष्यवाणी करने व Animation movie का निर्माण करने के लिये किया जाता है !
25 march 1989 को भारत में Cray-X MP-14 नाम का सुपर कंप्यूटर दिल्ली में स्थापित किया गया था ! इसका प्रयोग मौसम एवम् कृषि सम्बन्धी जानकारी प्राप्त करने के किया गया था ,इस के बाद भारत ने कुछ समय पहले ही सुपर कंप्यूटर बनाने में सफलता प्राप्त की CRAY-2,CRYXM-24  और NEC-500 SUPERCOMPUTER के मुख्य उदहारण है ! वर्तमान में C.D.A.C  ,  PUNE ने परम 10000 कंप्यूटर का निर्माण श्री विजय भटकर के निर्देशन  में हुआ है!' एकम' नामक सुपर कंप्यूटर का  निर्माण भारत दुआरा किया  गया है !...

Read More

Post Top Ad

Your Ad Spot